खुर्जा सुपर थर्मल पॉवर परियोजना

  • परिचय
     
    ऊर्जा के अन्‍य क्षेत्रों में विविधीकरण करते हुए टीएचडीसीआईएल को उत्‍तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में कोयला आधारित 1320 मेगावाट क्षमता के खुर्जा सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्‍ट का कार्य सौंपा गया है।
     
    1. टीएचडीसीआईएल ने उत्‍तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में 2x660 मे.वा. के खुर्जा सुपर क्रिटिकल थर्मल पावर प्रोजेक्‍ट की स्थापना के लिए उ.प्र. सरकार और यूपीपीसीएल के साथ 31 दिसंबर, 2010 को एक समझौता ज्ञापन किया । यूपीएसआईडीसी के द्वारा खुर्जा में पहले ही 1200 एकड़ भूमि औद्योगिक उपयोग के लिए अधिग्रहित की गई थी जिसका उपयोग परियोजना के निर्माण के लिए किया जा रहा है। 
    2. परियोजना की ईंधन आवश्‍यकताओं को पूरा करने के लिए कोयला मंत्रालय, भारत सरकार ने अपने आबंटन आदेश दिनांक 17.01.2017 के माध्‍यम से कोयला लिंकेज हेतु मध्‍य प्रदेश के सिंगरौली जिले में अमेलिया कोयला खदान टीएचडीसीआईएल को आबंटित कर दी है । कोयला खदान को विकसित किया जा रहा है। 
    3. आर्थिक मामलों की केविनेट कमेटी (सीसीईए) ने उत्‍तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में खुर्जा सुपर थर्मल पॉवर प्‍लांट (एसटीपीपी) हेतु निवेश अनुमोदन 07.03.2019 को प्रदान कर दिया है। 
    4. माननीय प्रधानमंत्री ने 09.03.2019 को खुर्जा सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्‍ट का शिलान्‍यास भी कर दिया है।
  • मुख्‍य विशेषताएं
    अवस्थिति                       :           उत्‍तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में खुर्जा के निकट
    प्रस्‍तावित क्षमता               :            2x660मे.वा.(1320 मे.वा.)
    तकनीकी                        :           कोयला आधारित सुपर क्रिटिकल थर्मल पावर प्रोजेक्‍ट
    ईधन                              :           कोयला
    ईंधन आवश्‍यकता             :           5.6एमटीपीए
    ईंधन स्रोत                       :           अमेलिया कोयला खदान(म.प्र.)
    कोयले का ग्रेड                               जी 9

    औसत जीसीवी                 :           4746केसीएएल/कि.ग्रा.
    ईंधन परिवहन                  :           भारतीय रेलवे नेटवर्क द्वारा
    जल स्रोत                         :           अपर गंगा नहर

     
     
     
    सी.डब्‍ल्‍यू प्रणाली               :           आईडीसीटी  द्वारा रिसर्कुलेशन टाइप कूलिंग वाटर प्रणाली
    विद्युत निकासी                :          संयंत्र से उत्‍पादित विद्युत का 400केवी सबस्‍टेशन के माध्‍यम से निकास  किया  जाएगा 
    स्‍टीम टरबाइन                  :           02 नं.
    कोल फायर बॉयलर           :           02 नं.
    चिमनी(ट्विन फ्ल्‍यू               :           02 नं.(प्रत्‍येक 150 मी.ऊंची)    
     
    विशिष्‍ट परियोजना विशेषताएं
     
    परियोजना सुपर क्रिटिकल प्रौद्योगिकी पर आधारित है जिसमें जीरो डिस्‍चार्ज  अवधारणा के लिए क्‍लोज्‍ड वाटर रिसर्कुलेशन सिस्‍टम, फ्यूल गैस डिसलफ्यूराइजेशन (एफजीडी) से सुसज्जित,  सलेक्टिव कैटालिटि‍क रिडक्‍शन (एससीआर)  एवं अपग्रेडेड इलेक्‍ट्रोस्‍टेटिक प्रीसिपिटेटरी (ईएसपी)  मौजूद हैं इसमें क्रमश: एसओएक्‍स, एनओएक्‍स एवं पार्टिकुलेट मैटर को 99% से अधिक नियंत्रित करने की क्षमता है । इसकी अवधारणा  पर्यावरण वन एवं मौसम परिवर्तन मंत्रालय के नवीनतम उत्‍सर्जन नियमों से भी बेहतर निष्‍पादन करने के लिए की गई है।   

     
  • महत्‍वपूर्ण  घटनाएं
    एमओयू पर हस्‍ताक्षरखुर्जा सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्‍ट(1320 मे.वा)  के कार्यान्‍वयन के लिए टीएचडीसीआईएल, उत्‍तर प्रदेश सरकार एवं उत्‍तर प्रदेश पावर कॉरपोरेशन लि. के मध्‍य 31 दिसंबर, 2010 को एमओयू पर हस्‍ताक्षर किए गए।
    पीपीएएस पर हस्‍ताक्षरखुर्जा एसटीपीपी से उत्‍पादित संपूर्ण विद्युत के टेक ऑफ के लिए 05.01.2011 से पूर्व टीएचडीसीआईएल ने उत्‍तर प्रदेश, उत्‍तराखण्‍ड, राजस्‍थान, हिमांचल प्रदेश एवं दिल्‍ली के साथ विद्युत क्रय करार पर हस्‍ताक्षर किए हैं। 
    एनएच-91 का मार्ग परिवर्तनएनएचएआई ने परियोजना भूमि से गुजरने वाले एनएच-91 के मार्ग परिवर्तन की सैंधांतिक अनुमति 29.10.2013 को डिपोजिट वर्क आधार पर प्रदान की । एनएच-91 के मार्ग परिवर्तन का कार्य एनएचएआई द्वारा 09.09.2020 को अवार्ड कर दिया गया ।
    1200.843 एकड़ भूमि के अंतरण हेतु एमओयूपूर्व से ही अधिग्रहित 1200.843 एकड़ भूमि (उत्‍तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले की खुर्जा तहसील के चार गांवो की भूमि) के कब्‍जे को उत्‍तर प्रदेश औद्योगिक विकास कॉरपोरेशन (यूपीएसआईडीसी) से टीएचडीसीआईएल को अंतरण करने हेतु 14.12.2013 को एमओयू पर हस्‍ताक्षर किए गए ।
    खुर्जा एसटीपीपी के रेलवे साइडिंग हेतु भूमिआवश्‍यक रेलवे भूमि को वार्षिक लीज पर लेने हेतु 21.07.2020 को उत्‍तरी केन्‍द्रीय रेलवे के साथ भूमि लाइसेंस करार पर हस्‍ताक्षर किए गए।
    34.19 हे. निजी भूमि एवं 0.1706 हे. सरकारी भूमि का कब्‍जा रेलवे साइडिंग के दोनो पैकेजो से संबंधित एजेंसियों को हस्‍तांतरित कर दिया गया है।
    मेकअप वाटरपरियोजना से 11 किमी की दूरी से मेकअप वाटर प्रणाली के लिए अपर गंगा नहर से 43 क्‍यूसेक जल उपलब्‍ध करवाने हेतु औपचारिक जल प्रतिबद्धता पत्र  जल संसाधन विभाग, उत्‍तर प्रदेश  सरकार द्वारा 12.06.2014 को जारी कर दिया गया है । पम्‍प हाउस का निर्माण एवं पाइप लाईन बिछाने का कार्य उ.प्र. जल निगम द्वारा 07.10.2021 को अवार्ड कर दिया गया ।
    पूर्व निवेश अनुमोदनभारत सरकार द्वारा पूर्व निवेश गतिविधियों( जैसे भूमि अधिग्रहण, राष्‍ट्रीय राजमार्ग का मार्ग परिवर्तन करना इत्‍यादि) के लिए होने वाले व्‍यय हेतु 585.82 करोड़ रुपये का पूर्व निवेश अनुमोदन 20.11.2015  को प्रदान किया गया ।
    कोयले की उपलब्‍धतापरियोजना की ईधन आवश्‍यकताओं को पूरा करने के लिए कोयला मंत्रालय, भारत सरकार ने अपने आबंटन आदेश दिनांक 17.01.2017 के माध्‍यम से कोयला लिंकेज के लिए मध्‍य प्रदेश के सिंगरौली जिले में अमेलिया कोयला खदान टीएचडीसीआईएल को आबंटित कर दी है ।
    पर्यावरण मंजूरीपर्यावरण वन एवं मौसम परिवर्तन मंत्रालय द्वारा खुर्जा एसटीपीपी को पर्यावरण मंजूरी 30.03.2017 को प्रदान कर दी है।
    निर्माण विद्युतखुर्जा एसटीपीपी के लिए 5 मे.वा. पीकिंग पावर 24.07.2017 को अनुमोदित की गई ।
    सब –स्‍टेशन से परियोजना स्‍थल के लिए 33केवी लाइन का प्रथम सर्किट पीवीवीएनएल द्वारा 31.08.2020 को चार्ज कर दिया गया है।
    चिमनी की मंजूरीभारतीय विमानपत्‍तन प्राधिकरण से खुर्जा एसटीपीपी के लिए चिमनी के निर्माण की मंजूरी 05 वर्ष के लिए अर्थात जुलाई 2023 तक 19 अप्रैल, 2018 को प्राप्‍त हो गई है।
    पीआईबी मंजूरीखुर्जा एसटीपीपी के लिए पीआईबी मंजूरी 27.02.2019 को प्राप्‍त कर ली गई है।
    निवेश अनुमोदनसीसीईए ने 07.03.19 को उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में खुर्जा एसटीपीपी के लिए 11089.42 करोड़ रु.    ( दिसंबर, 2017 के मूल्‍य स्‍तर पर)  की अनुमानित लागत पर निवेश की मंजूरी प्रदान की है।
    शिलान्‍यासमाननीय प्रधानमंत्री जी ने खुर्जा एसटीपीपी का शिलान्‍यास 09.03.2019 को कर दिया है।
    स्‍थल समतलीकरण सहित स्‍टीम जनरेटर एवं अनुषंगी पैकेज का अवार्डस्‍थल समतलीकरण सहित स्‍टीम जनरेटर एवं अनुषंगी पैकेज मैसर्स एल एण्‍ड टी एमएचपीएस बॉयलर प्रा.लि. (एलएमबी) को 29.08.2019 को  अवार्ड कर दिए गए है।
    यूनिट -1 के मुख्‍य बॉयलर एवं यूनिट-2 के मुख्‍य बॉयलर का स्‍थापन क्रमश: 20.02.2021 एवं 17.08.2021 को कर दिया गया। 
    टरबाइन जनरेटर एवं अनुषंगी पैकेज का अवार्डटरबाइन जनरेटर एवं अनुषंगी पैकेज (टीजी) बीएचईएल को 03.10.2019  को अवार्ड कर दिए गए हैं।
    स्विचयार्ड पैकेज का अवार्डस्विचयार्ड पैकेज (एसवाई पैकेज) मैसर्स जीई टी  एण्‍ड डी को 26.02.2020 को अवार्ड कर दिया गया है।
    कूलिंग टॉवर पैकेज  का अवार्ड कूलिंग टॉवर पैकेज(सीटी पैकेज ) मैसर्स पहाड़पुर कूलिंग टॉवर को 15.12.2020 को अवार्ड कर दिया गया है ।
    रेलवे साइडिंग पैकेज का अवार्डरेलवे साइडिंग के निर्माण के लिए दो सिविल पैकेज 29.10.2020 को अवार्ड कर दिए गए हैं।
    प्रथम पैकेज मैसर्स झाझरिया निरमन लि.  को अवार्ड कर दिया गया है एवं
    द्वितीय पैकेज मैसर्स आई.एस.सी –सीएमआईपीएल(जेवी) को अवार्ड कर दिया गया है। 
    कोयला, चूना पत्‍थर एवं जिप्‍सम  हैंण्‍डलिंग प्‍लांट पैकेजकोयला, चूना पत्‍थर एवं जिप्‍सम  हैंण्‍डलिंग प्‍लांट पैकेज 04.08.2021 को मैसर्स थईसेनक्रप इंडस्‍ट्रीज इंडिया प्रा. लि. को अवार्ड कर दिया गया ।
    कूलिंग वाटर प्रणाली उपकरण  पैकेज का अवार्डकूलिंग वाटर प्रणाली उपकरण  पैकेज 01.10.2021 को मैसर्स फ्लोमोर लि. को अवार्ड कर दिया गया ।
    कूलिंग वाटर प्रणाली सिविल कार्य  पैकेज का अवार्डकूलिंग वाटर प्रणाली सिविल  पैकेज 28.10.2021 को मैसर्स बीएचईएल को अवार्ड कर दिया गया ।
    जल उपचार संयंत्र एवं विविध पैकेज का अवार्डजल उपचार संयंत्र एवं विविध पैकेज का अवार्ड 30.11.2021 को मैसर्स गजा इंजीनियरिंग प्रा.लि. को किया गया ।
    विद्युत निकासी528 मे.वा. के लिए आईएसटीएस से कनेक्टिविटी की अनुमति  की सीटीयू सूचना दिनांक 18.03.2020 के माध्‍यम से प्रदान की गई ।
    1320 मे.वा. में से, 60% विद्युत (792 मे.वा.) की आपूर्ति उत्‍तर प्रदेश को  एवं शेष 40% विद्युत (528 मे.वा.) की आपूर्ति अन्‍य लाभार्थी राज्‍यों को की जानी है।
    यूपीपीटीसीएल खुर्जा एसटीपीपी स्विचयार्ड  बसबार से अपने हिस्‍से की विद्युत अर्थात 60%  (792 मे.वा.) की निकासी अलीगढ़ शामली 400 केवी लाइन हेतु एलआईएलओ के निर्माण के माध्‍यम से करेगा ।
    खुर्जा परियोजना से अलीगढ़ सब-स्‍टेशन तक पीजीसीआईएल की 400केवी डबल सर्किट लाईन के निर्माण के लिए पीजीसीआईएल के साथ एमओयू पर 26.06.2020 को हस्‍ताक्षर हो गए हैं।
    पीजीसीआईएल ने ट्रांसमिशन लाइन एवं सब-स्‍टेशन के निर्माण का कार्य क्रमश: 02.03.2021 एवं 25.03.2021 को अवार्ड कर दिया है।  
  • परियोजना से लाभ

    85% पीएलए की उपलब्‍धता पर परियोजना  से 9264 मिलियन यूनिट विद्युत ग्रिड को भेजी जाएगी





Updated on : 04/03/2022